Monday, January 2, 2012

आंख शब भर मेरी लगती नहीं क्यों

312502_252968338093474_100001409299841_763506_1408804130_n

कयामत की रात ये ढलती नहीं क्यों

खिजा की रुत भी बदलती नहीं क्यों

 

क्याबतलाऊ मैं तुझको ऐ दिलबर

तन्हा रुत अब गुजरती नही क्यों

 

टुटा है जब से ख्वाब मेरी आँखों का

आंख शब भर मेरी लगती नहीं क्यों

 

अब्र आते है बरसते हैं चले जाते है

कली दिल की मगर खिलती नहीं क्यों

 

     बैठी हूँ बीच दरिया में मगर

   प्यास ये मेरी बुझती नहीं क्यों

 

               (अनु )

11 comments:

  1. इन सवालो के जवाब देना तो सच में बेहद मुश्किल है ... बेहद उम्दा रचना !

    ReplyDelete
  2. सुन्दर रचना ...
    सवाल शाश्वत हैं शायद

    ReplyDelete
  3. सुंदर रचना !

    आभार !
    नए साल की हार्दिक बधाई आपको !

    ReplyDelete
  4. मन को छूता अहसास...
    बहुत ही सटीक भाव !!
    अनू जी.... नव वर्ष २०१२ की गहरी शुभकामनाओं सहित !!

    ReplyDelete
  5. kya kahane...ati sundar wa bhavpoorna prastuti

    ReplyDelete
  6. चाह जब तक रूह की हो,
    प्यास कब किसकी बुझी है।

    ReplyDelete
  7. सुभानाल्लाह.........बहुत खूबसूरत हर शेर उम्दा और बेहतरीन|

    ReplyDelete
  8. सुंदर रचना नए साल की हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  9. टुटा है जब से ख्वाब मेरी आँखों का
    आंख शब भर मेरी लगती नहीं क्यों

    आपका लिखा हर शे'र काबिलेतारीफ है .....! प्रशंसनीय रचना ...!

    ReplyDelete
  10. टुटा है जब से ख्वाब मेरी आँखों का

    आंख शब भर मेरी लगती नहीं क्यों

    sunar rachna ... keep writing

    ReplyDelete
  11. Visit my new blog post @
    http://rahulpoems.blogspot.in/2012/02/blog-post.html

    ReplyDelete

यूँ चुप न रहिये ... कुछ तो कहिये